धार्मिक स्थल More धार्मिक स्थल

पूजा-पाठ More पूजा-पाठ

  • पूजा-पाठ
    मां संतोषी शुक्रवार व्रत कथा

    शुक्रवारकेदिनमांसंतोषीकाव्रत-पूजनकियाजाताहै.संतोषीमाताकोहिंदूधर्ममेंसंतोष, सुख, शांतिऔरवैभवकीमाताकेरुपमेंपूजाजाताहै.धार्मिकमान्यताओंकेअनुसारमातासंतोषीभगवानश्रीगणेशकीपुत्रीहैं.मातासंतोषीकाव्रतपूजनकरनेसेधन, विवाहसंतानादिभौतिकसुखोंमेंवृद्धिहोतीहै.यहव्रतशुक्लपक्षकेप्रथमशुक्रवारसेशुरूकियाजाताहै.सुख, सौभाग्यकीकामनासेमातासंतोषीके 16 शुक्रवारतकव्रतरखेजानेकेविधानहै. शुक्रवारव्रतकथाकीविधि शुक्रग्रहसेपीड़ितव्यक्तियोंकोइससेछुटकारापानेकेलिएशुक्रवारकाव्रतकरनाचाहिए. यहकिसीभीमासकेशुक्लपक्षकेप्रथमशुक्रवारसेआरंभकर 21 या 31 व्रतकरनाचाहिए. व्रतवालेदिनअजीठचूर्णमिलेजलसेस्नानकरकेयथासंभवश्वेतवस्त्रधारणकर ‘द्रांद्रींद्रौंसःशुक्रायनमः’ मंत्रका...

  • पूजा-पाठ
    शनिवार व्रत कथा

    शनिवारकाव्रतकरनेसेशनिऔरराहुकीशांतिहोतीहै.शनिकीशांतिहेतुकमसेकम 19 व्रतएवंराहुकीशांतिकेलिए 18 व्रतकिएजातेहैं.यहव्रतमनस्ताप, रोग, शोक, भय, बाधाआदिसेमुक्तिएवंशनिजन्यपीड़ाकेनिवारणकेलिएविशेषरूपसेफलदायकहोताहै. शनिवारकेदिनप्रातःस्नानादिकरनेकेबादकालातिलऔरलौंगमिश्रितजलपश्चिमदिशाकीओरमुखकरकेपीपलवृक्षपरचढाएं.तत्पश्चातशिवोपासनायाहनुमतआराधनाऔरसाथहीशनिकीलौहप्रतिमाकीपूजाकरनीचाहिए. फिरशनिवारव्रतकथाकापाठकरनाचाहिए. उड़दकेबनेपदार्थबूढ़ेब्राह्मणकोदेनाचाहिएऔरस्वयंसूर्यास्तकेपश्चातभोजनग्रहणकरनाचाहिए. भोजनकेपूर्वशनिकीशांतिहेतु ‘शंशनैश्चरायनमः’ मंत्रकाऔरराहुकीशांति ‘हेतु ‘रांराहवेनमः’...

  • पूजा-पाठ
    सोलह सोमवार व्रत कथा

    सोलह (षोडश) सोमवारव्रत, सोमवारव्रतकाएकप्रकारहै.सोमवारदिनकेदेवताभगवानशिवजीहैं.इसव्रतमेंभगवानशिवकापूजनकियाजाताहै. सोलह (षोडश) सोमवारव्रतविधि सोलह (षोडश) सोमवारव्रतमेंभगवानशिवजीकापूजनएवंअर्चनकियाजाताहै.सोलह (षोडश) सोमवारकेदिनव्रतीकोभक्तिपूर्वकव्रतकरनाचाहिए. उन्हेंआधासेर गेहूंकेआटाकातीनअंगाबनाकरघी, गुड़, दीप, नैवेद्य,...

  • पूजा-पाठ
    बृहस्पतिवार व्रत कथा

    बृहस्पतिवारव्रतकिसीभीबृहस्पतिवारसेप्रारंभकियाजासकताहै.अग्निपुराणकेअनुसारयदिकिसीशुक्लपक्षमेंगुरुवारकोअनुराधानक्षत्रकायोगहोऔरउसदिनयहव्रतशुरूकियाजाएतोअत्यंतफलदायीहोताहै.साथहीबृहस्पतिग्रहकेअभिशापसेमुक्तिमिलतीहै. बृहस्पतिवारकेआराध्यदेवगुरुहैं.गुरुकाअर्थहोताहैअंधकारसेप्रकाशकीओरलेजाना.अर्थातहमारेअंदरव्याप्तबुराईयोंकोसमूलनष्टकरें.गुरुकृपासेहीअखिलब्रह्मांडकेनायकपरमात्माकीप्राप्तिभीसंभवहै. बृहस्पतिवारकेदिनविष्णुजीकीपूजाहोतीहै.यहव्रतकरनेसेबृहस्पतिदेवताप्रसन्नहोतेहैं.स्त्रियोंकेलिएयहव्रतफलदायीमानागयाहै. पूजा – विधि बृहस्पतिवारव्रतकथाकरनेवालेस्त्री-पुरूशकोचाहिएकिवहइसदिनमेंएकहीसमयभोजनकरेक्योंकिबृहस्पतेश्वरभगवानकाइसदिनपूजनहोताहैभोजनपीलेचनेकीदालआदिकाकरेंपरन्तुनमकनहींखावेंऔरपीलेवस्त्रपहनें, पीलेहीफलोंकाप्रयोगकर, पीलेचन्दनसेपूजनकरें, पूजनकेबादप्रेमपूर्वकगुरूमहाराजकीकथासुननीचाहिए. इसव्रतकोकरनेसेमनकीइच्छायेंपूरीहोतीहैऔरबृहस्पतिमहाराजप्रसन्नहोतेहैतथाधन, पुत्र, विद्यातथामनवांछितफलोंकीप्राप्तिहोतीहै.परिवारकोसुखशांतिमिलतीहै, इसलिएयहव्रतसर्वश्रेष्ठऔरअतिफलदायकसबस्त्रीवपुरूषोंकेलिएहै. इसव्रतमेंकेलेकापूजनकरनाचहिए. कथाऔरपूजनकेसमयतन, मन,...

जीने की राह More जीने की राह

  • जीने की राह
    घर के मंदिर में ये 7 गलतियां मानी जाती है अशुभ

    इंटीरियरडैकोरेशन: हरघरमेंमंदिरकेलिएजगहतोजरूररखीजातीहैं।कुछघरोंमेंछोटेमंदिरबनवाएंजातेहैंतोकुछघरोंमेंबड़ेमेंदिरबनवाएंजातेहैं। लेकिनअक्सरलोगमंदिरसेजुड़ीकुछगलतियांकरबैठतेहैंजोघरकेलिएअशुभमानीजातीहैं।आजहमआपकोमंदिरसेजुड़ीकुछऐसीबातोंकेबारेमें बताएंगेजोकिआपकोघरकेमंदिरमेंनहींकरनीचाहिए। 1. मूर्ति हरघरमेंगणेशजीकीमूर्तितोरखीहीजातीहै।लेकिनमंदिरमेंकभीगणेशजीकी 3 मूर्तिनहींहोनीचाहिए।इसकेअलावाअगरहमशिवलिंगकीबातकरेंतोशिवलिंगहमारेअंगूठेकेआकारसेबड़ानहींहोनाचाहिए। शिवलिंगबहुतसंवेदनशीलहोताहैऔरइसीवजहसेघरकेमंदिरमेंछोटा-साशिवलिंगरखनाशुभहोताहै। 2. शंख मंदिरमेंसभीशंखतोरहतेहीहैं, लेकिनएकसेज्यादाशंखमंदिरमेंनहींरखनाचाहिए।अगरमंदिरमेंदोशंखहैतोआपउनमेसेएकशंखहटादें। 3. टूटीमूर्ति घरमेंटूटीहुईमूर्तिरखनाभीअशुभमानाजाताहै।अगरआपकेघरमेंटूटीहुईमूर्तिरखीहैंतोउसेकिसीपवित्रबहतीनदीमेंप्रवाहितकरदें।...

  • जीने की राह
    कठिन क्षणों में भक्तों को देती है सहारा, जानिए मां ब्रह्मचारिणी की महिमा

    नवरात्रिकेदूसरेदिनमांदुर्गाकेद्वितीयस्वरूपमांब्रह्मचारिणीकीपूजाकीजातीहै। मांकेपूजनसेज्ञानअौरवैराग्यकीप्राप्तिहोतीहै।देवीब्रह्मचारिणीकीउपासनासेतप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयमकीवृद्धिहोतीहै।मांब्रह्मचारिणीकीकृपासेमनुष्यकोसर्वत्रसिद्धिऔरविजयकीप्राप्तिहोतीहै, तथाजीवनकीअनेकसमस्याओंएवंपरेशानियोंकानाशहोताहै।देवीब्रह्मचारिणीकास्वरूपपूर्णज्योर्तिमयहै। मांदुर्गाकीनौशक्तियोंमेंसेद्वितीयशक्तिदेवीब्रह्मचारिणीकाहै।ब्रह्मकाअर्थहैतपस्याऔरचारिणीयानीआचरण करनेवालीअर्थाततपकाआचरणकरनेवालीमांब्रह्मचारिणी।देवीब्रह्मचारिणीकेदाहिनेहाथमेंअक्षमालाहै औरबाएंहाथमेंकमण्डलहोताहै।इसदेवीकेकईअन्यनामहैंजैसेतपश्चारिणी, अपर्णाऔरउमा। शास्त्रोंमेंमांकेएकहरस्वरूपकीकथाकामहत्वबतायागयाहै। मांब्रह्मचारिणीकीकथाजीवनकेकठिनक्षणोंमेंभक्तोंकोसहारादेतीहै। मांब्रह्मचारिणीकीकथा देवीनेपूर्वजन्ममेंराजाहिमालयकेघरजन्मलियाथा।उन्होंनेनारदजीकेउपदेशसेभोलेनाथकोपतिरूपमेंपानेकेलिएकठोरतपस्याकीथी। कठोरतपकेकारणहीमाताकोतपश्चारिणीअर्थात्ब्रह्मचारिणीनामसेजानागया।मांनेएकहजारवर्षतककेवलफलफूलखाकरबिताए। इसकेपश्चातसौवर्षोंतकजमीनपररहकरवनस्पतिखाकरजीवननिर्वाहकिया।कुछदिनोंतककठिनउपवासरखकरवर्षाअौरधूपमेंखुले...

  • जीने की राह
    बसंतपंचमी के दिन करें इन मंत्रों का जाप, विद्याव बुद्धि देगी मां सरस्वती

    बसंतपंचमीभारतीयत्यौहारहै।इसदिनविद्याकीदेवीसरस्वतीकीपूजाकीजातीहै। माघमासमेंशुक्लपक्षकीपंचमीकेदिनवसंतपंचमीकापर्वमनायाजाताहै। इसवर्षयेपर्व 1 फरवरीकोमनायाजारहाहै।इसदिनकोमांसरस्वतीकेजन्मोत्सवकेरूपमेंमनातेहैं। इसदिनमांसरस्वतीकेमंत्रोंकाजापकरनेसेज्ञान, विद्या, बल, बुद्धिअौरतेजकीप्राप्तिहोतीहै। ‘ऎंह्रींश्रींवाग्वादिनीसरस्वतीदेवीममजिव्हायां।सर्वविद्यांदेहीदापय-दापयस्वाहा।’ एकादशाक्षरसरस्वतीमंत्र :ॐह्रींऐंह्रींसरस्वत्यैनमः। ‘वर्णानामर्थसंघानांरसानांछन्दसामपि।मंगलानांचकर्त्तारौवन्देवाणीविनायकौ॥’ ‘सरस्वत्यैनमोनित्यंभद्रकाल्यैनमोनम:। वेदवेदान्तवेदांगविद्यास्थानेभ्यएवच।। सरस्वतिमहाभागेविद्येकमललोचने। विद्यारूपेविशालाक्षीविद्यांदेहिनमोस्तुते।।’

  • जीने की राह
    वसंतपंचमी पर करें ये काम, मिलेगा ज्ञान का भंडार और बुद्धि का वरदान

    कल 1 फरवरी 2017 कोसरस्वतीपूजाकादिनहै, जोप्रत्येकवर्षमाघमाहकीशुक्लपक्षकीपंचमीकोवसंतपंचमीकेरूपमेंमनायाजाताहै। मांशारदेकेप्राकट्यपर्वकोसर्वसिद्धिदायकपर्वमानाजाताहै।देववाणीसंस्कृतभाषामेंनिबद्धशास्त्रीयग्रंथोंकादानसंकल्पपूर्वकविद्वानब्राह्मणों कोदेनाचाहिए।साथहीॐऐंसरस्वत्यैनम:’ इसपुराणोक्तमंत्रके 1100 जपकरनेसेभीतत्त्वज्ञानकीप्राप्तिहोतीहै। देवीसरस्वतीकीकृपाजिसपरहोजातीहै, वहव्यक्तिजितनाभीमूढ़होशीघ्रहीबुद्धिमानहोकरजीवनमेंसहीनिर्णयलेनेमेंसफलहोताहै। इसश्लोककेप्रभावसेआपकीबुद्धिनिर्मलहोगी। याकुन्देन्दुतुषारहारधवलायाशुभ्रवस्त्रावृता यावीणावरदण्डमण्डितकरायाश्वेतपद्मासना। याब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैःसदावन्दिता...

ज्योतिष More ज्योतिष

संत-साधक More संत-साधक

जीने की राह

घर के मंदिर में ये 7 गलतियां मानी जाती है अशुभ

adminDecember 11, 2017
जीने की राह

कठिन क्षणों में भक्तों को देती है सहारा, जानिए मां ब्रह्मचारिणी की महिमा

adminDecember 11, 2017
जीने की राह

बसंतपंचमी के दिन करें इन मंत्रों का जाप, विद्याव बुद्धि देगी मां सरस्वती

adminDecember 11, 2017