• श्रीसूर्यदेव की पूजन विधि

    सामग्री कुमकुमयालालचंदन, लालफूल, चावल, दीपक, तांबेकीथाली, तांबेकालोटा विधि सूर्यदेवकेरोजानाकिएजानेवालेपूजनमेंआवाहन, आसनकीजरुरतनहींहोतीहै।सूर्यऐसेदेवताहैंजोप्रत्यक्षहीदिखाईदेतेहैं।उगतेहुएसूर्यकापूजनउन्नतिकारकहोताहैं।इससमयनिकलनेवालीसूर्यकिरणोंमेंसकारात्मकप्रभावबहुतअधिकहोताहै।जोकिशरीरकोभीस्वास्थयलाभपंहुचातीहैं। श्रीसूर्यदेवकी पूजनविधि सूर्यपूजनकेलिएतांबेकीथालीऔरतांबेकेलोटेकाउपयोगकरें।लालचंदनऔरलालफूलकीव्यवस्थारखें।एकदीपकलें।लोटेमेंजललेकरउसमेंएकचुटकीलालचंदनकापाउडरमिलालें।लोटेमेंलालफूलभीडाललें।थालीमेंदीपकऔरलोटारखलें। अब ऊँसूर्यायनमः मंत्रकाजपकरतेहुएसूर्यकोप्रणामकरें।लोटेसेसूर्यदेवताकोजलचढ़ाएं।सूर्यमंत्रकाजपकरतेरहें।इसप्रकारसेसूर्यकोजलचढ़ानासूर्यकोअर्घप्रदानकरनाकहलाताहै। ऊँसूर्यायनमःअर्घंसमर्पयामि...

  • श्रीहनुमान पूजन की सरल विधि

    सामग्री देवमूर्तिकेस्नानकेलिएतांबेकापात्र, तांबेकालोटा, जलकाकलश, दूध, देवमूर्तिकोअर्पितकिएजानेवालेवस्त्रवआभूषण।सिंदूर, दीपक, तेल, रुई, धूपबत्ती, फूल, चावल।प्रसादकेलिएफल, मिठाई, नारियल, पंचामृत, सूखेमेवे, शक्कर,...

  • श्री भैरव की आरती

    आरती का अर्थ है पूरी श्रद्धा के साथ परमात्मा की भक्ति में डूब जाना। भगवान को प्रसन्न...

  • श्री गणेश आरती

    आरती का अर्थ है पूरी श्रद्धा के साथ परमात्मा की भक्ति में डूब जाना। भगवान को प्रसन्न...

  • श्री शनि देव की आरती

    आरती का अर्थ है पूरी श्रद्धा के साथ परमात्मा की भक्ति में डूब जाना। भगवान को प्रसन्न...

  • श्री विष्णु की आरती

    आरती का अर्थ है पूरी श्रद्धा के साथ परमात्मा की भक्ति में डूब जाना। भगवान को प्रसन्न...